Monday, October 17, 2016

हर किसी की अपनी कहानी Hindi Motivational Story

 on  with No comments 
In , ,  

        हर किसी की अपनी कहानी Hindi Motivational Story


एक बार की बात है , एक आदमी अपने पुत्र के साथ कही जा रहा था। वह आदमी अपने पुत्र के साथ ट्रेन से सफर कर रहा था। वह आदमी और उसका पुत्र ट्रेन के खिड़की वाली जगह पे बैठे हुए थे। उस ट्रेन के डिब्बे में और भी यात्री बैठे हुए थे। उस आदमी का पुत्र बार बार खिड़की से बाहर देखता और बच्चों जैसी  हरकते करता।  सब यात्री उसकी इस व्यव्हार को देख रहे होते है। पुत्र अपने से पिताजी से कहता देखो पिताजी ये पेड़ पीछे की और भाग रहे है। और हम इन पेड़ो से आगे निकलते जा रहे है। पिता अपने पुत्र को देखकर मुस्कुराने लगा।  उस डिब्बे में बैठे सब यात्री ये सब देख रहे थे।

पुत्र फिर अपने पिता से कहता है देखो पिताजी ये बदल कितनी तेज चल रहे हैं। पिता फिर अपने पुत्र को देख कर मुसकुराता। उस डिब्बे में बैठे सब यात्री ये सब देख रहे थे। उस डिब्बे में एक विवाहित जोड़ा भी बैठा था जो कही घूमने जा रहा था। उनसे  यह सब देख कर शांत नहीं रहा गया।  उस जोड़े ने उस आदमी से कह दिया की अप्प अपने इस  २० वर्ष के पागल पुत्र का कही इलाज़ क्यों नहीं कराते। आपको दीखता नहीं है की आपका पुत्र पागलो जैसी हरकते करता है। आप इसको किसी मनोचिकित्सक को क्यों नहीं दिखाते ?

वह आदमी उस नए जोड़े को मुस्कुरा के जवाब देता है की अभी अस्पताल से ही आ रहा हुआ। अभी कुछ दिनों पहले हुई इसकी आँखों  का ऑपरेशन हुआ है। मेरा पुत्र जन्म से ही अँधा था। अभी इसका ऑपरेशन हुआ है इसने फिरसे टीम ये सब कुछ देखा है। और मेरा पुत्र कोई पागल नहीं है।उस जोड़े को उस आदमी की बात सुनकर पछतावा हुआ और उन्होंने उस आदमी और उसके पुत्र से अपने इस व्यव्हार के या माफ़ी मांगी। उस  उसके पुत्र ने माफ़ कर कर दिया।

आशा करती हूँ की आपको ये कहानी पसंद आयी होगी इस कहानी के माध्यम से हमे दो बातें सीखने को मिलती है. पहली ये की माफी माँगने से ज्यादा माफ़ करने वाला बड़ा होता है और दूसरी ये की हमे कभी किसी का मजाक नहीं बनाना चाहिए। हमे नहीं पता के उस इंसान  ने इसके लिया क्या कीमत चुकाई होगी। हमे नहीं पता होता की किस इंसान ने कितना संघर्ष किया हो और न जाने कितने दुखो का सामना किया हो। "हर किसी की अपनी कहानी होती है। "

ऐसी और भी hindi motivational story के लिया आप मेरा लिंक भी save कर सकते हैं।  www .achhesandesh.in 

tags-#hindi motivational story,#moral story#insiprational story
Share:

0 comments:

Post a Comment