Friday, August 5, 2016

कुल्हाड़ी की धार तेज करो Hindi Motivational Story

 on  with 1 comment 
In , , ,  

          कुल्हाड़ी की धार तेज करो Hindi Motivational Story

www.achhesandesh.in


जॉन नाम का एक लकड़हारा, एक कंपनी में पिछले कई वर्षों से कार्य कर रहा था। जॉन काफी महेनती और ईमानदार व्यक्ति था। कई वर्षो से लकड़हारे का काम करने के बाद भी उसे तरक्क़ी नहीं मिल रही थी। वह आज भी एक वर्ष में उतने ही पेड़ काट रहा है, जितना उसने अपने शरुआती सालों में काटे थे। इसी वजह से उसे कभी तरक्की नहीं मिली। उसी कंपनी में एक डेविड नाम का लकड़हारा भी काम करता था। उसको एक वर्ष में ही तरक्की मिल गई। और यही बात जॉन को समझ नहीं आ रही थी, की मैं पांच वर्षो से यही कार्य कर रहा हूँ फिर भी मुझे कोई ख़ास सफलता नहीं मिली और डेविड को एक वर्ष में ही इस कार्य में सफलता हो गयी और उसका प्रमोशन भी हो गया। यही बात मन ही मन सोच के दुखी रहने लगा और एक दिन अपने बॉस से पूछ ही लिया की मैं इतने वर्षो से कार्य कर रहा हूँ फिर भी मुझे कोई उपलब्धि नहीं मिली और डेविड को एक वर्ष में ही तरक्की मिल गयी। मैं भी उतना ही कार्य करता हूँ जितना की डेविड फिर मेरे साथ ऐसा क्यों? बॉस जॉन से कहता है की इसकी वजह तो तुम्हे  डेविड ही बता सकता है, की वह ऐसा क्या अलग करता है जो तुम नहीं करते। तुम्हे ये प्रश्न डेविड से ही पूछना चाहिए।

जॉन डेविड के पास जाता है और पूछता है की तुम ऐसा क्या करते हो जिस वजह से तुम्हे इतनी तरक्की मिल रही है? डेविड जॉन से पूछता है की तुमने आखिरी बार कुल्हाड़ी में धार कब लगाई थी? जॉन उत्तर देता है पांच वर्ष पूर्व। डेविड को बात समझ आ जाती है की जॉन क्यों इतना परेशान है। डेविड जॉन को बताता है, की "मैं हर पेड़ काटने के बाद अपनी  कुल्हाड़ी की धार तेज़ करता है।"

"पिछली शिक्षा और गौरव का ज्यादा महत्व नहीं होता। हमे अपनी  कुल्हाड़ी की धार निरंतर तेज करनी होगी। हमे सदैव कुछ नया प्रयास सीखने का प्रयास करते रहना चाहिए।"

आपको कैसे लगी hindi motivational story अपने comment के माध्यम से हमे बताये। और भी hindi motivational story के लिए, आप मेरा link भी save कर सकते हैं। www .achhesandesh.in

Tags-Hindi motivational story,
         Life lesson
         Morale story

Share:

1 comment:

  1. काफी अच्छी और अंत तक बांधे रखने वाली प्रस्तुति है। धन्यवाद।

    ReplyDelete