Wednesday, January 4, 2017

Sandeep Maheshwari Quotes

 on  with 5 comments 
In , ,  

                              Sandeep Maheshwari Quotes

  Sandeep Maheshwari  एक मोटिवेशनल स्पीकर है। इस पोस्ट मैं हम संदीप माहेश्वरी के कुछ अनमोल विचारो को लिख रहे  जो  Sandeep Maheshwari sir ने अपने सेमिनार में कहे हैं  Sandeep Maheshwari के ये विचार किसी को भी motivate कर सकते हैं व उनको पॉजिटिव सोच का नजरिया देते है। 

                            Sandeep Maheshwari Quotes (अनमोल विचार )

Quotes1- दुनिया का सबसे बड़ा रोग क्या कहेंगें लोग।

Quotes2- अरे इतना मिलेगा भाई जितना आप सपने में भी नहीं सोच सकते , पहले खिलाडी तो बनो , अपनी फील्ड के पक्के खिलाडी तो बनो।

Quotes3- कभी पीठ पीछे अगर आपकी बात चले तो घबराना मत, क्योंकि बात तो उन्ही की होती है जिनमे कोई बात होती है।

Quotes4- अगर बोरिंग जगह पे ध्यान लगाना आ गया, तो  interesting जगह पे तो ध्यान टिकाना तो खेल है।

Quotes5- जो सरफिरे होते है वही इतिहास लिखते है, समझदार लोग तो सिर्फ उनके बारे में पढ़ते है।

Quotes6- जिस नजर से आप दुनिया को देखोगे, ये दुनिया आपको वैसे ही दिखेगी।

Quotes7- अच्छा  बोलो , अच्छा सुनो और अच्छा देखो।

Quotes8- न भागना है न रुकना है ,बस चलते रहना है।

Quotes9- पैसे की इम्पोर्टेंस ज़िन्दगी में बस इतनी है जितनी गाड़ी में पेट्रोल की होती है।

Quotes10- किसी भी काम को करने में  अगर आपने अपना १०० % लगा दिया तो आप successful बन जाओगे।

Quotes11- हमेशा याद रखो की आप अपनी समस्या से कई गुना बड़े हो।

Quotes12 - आपको खुद की नजरो से उठाना  है, जो इंसान खुद की नजरो से उठ गया वह दुनिया की नजरो से भी अपने आप उठ जायेगा।

Quotes13 - एक तरफ है जो आप करना चाहते हो, जो आप बनना चाहते हो , जो आप पाना चाहते हो और दूसरी तरफ है जो आपसे करवाना चाहती है।

Quotes14 - आपकी हिम्मत के आगे दुनिया की कोई ताकत नहीं टिक सकती।

Quotes15 - जिसको सवाल करने की आदत है वह व्यक्ति किसी भी फील्ड मे जाये वह कामयाब हो जायेगा।

Quotes16 - एक तरफ है मजा और दूसरी तरफ है दर्द इन दोनों के बीच में संतुलन बनाना है।

Quotes17 - इस दुनिया में  मैजिक नाम की कोई चीज नहीं है, सिर्फ खेल है।

Quotes18- ज़िन्दगी में  कभी कुछ करना है तोह सबसे पहले अपनी सोच बदलो।

Quotes19 - अगर आप उस इंसान की तलाश में हो जो आपकी ज़िन्दगी बदलेगा , तो आईने में देख ले।

Quotes20 - अगर आप महानता हासिल करना चाहते है तो इजाजत लेना बंद करे।

Quotes21 - गलतिया इस बात का साबुत है की आप प्रयास कर रहे हैं।

Quotes22 - मैं  सिर्फ good luck को मानता हूँ badluck नाम की इस दुनिया में  कोई चीज नहीं है , क्योंकि जो होता हैं अच्छे के लिए होता है।

Quotes23 - कामयाब होना कोई बड़ो का खेल नहीं, ये बच्चों का खेल है। अगर तुम मान लो की successful होना बच्चों का खेल है तो क्या होगा successful हो जाओगे।

 Quotes 24 -या तो अपने दिमाग को control करो, नहीं तो ये तुम्हे control कर लेगा।

Quotes25 - कामयाबी अनुभव से आती है, और अनुभव गलतियों से यानि ख़राब अनुभव से।



मैं  Sandeep Maheshwari को अपनी ज़िन्दगी मई फॉलो करती हूँ।  मुझे उनके विचार काफी पसंद है। उम्मीद करती हूँ की आपको  Sandeep Maheshwari Quotes बहुत अचे लगेंगे। आपको  Sandeep Maheshwari Quotes के ये विचार कैसे लगे मुझे कमेंट के माध्यम से अपने विचार बताएं।

Tags - # Sandeep Maheshwari Quotes,
          #Inspirational quotes,
          #Motivation,
          #Motivational Quotes,

Share:

Tuesday, December 6, 2016

Narendra Modi Quotes

 on  with 5 comments 
In , ,  
 नरेंद्र मोदी का पूरा नाम नरेंद्र दामोदर दास मोदी है। नरेंद्र मोदी भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री हैं। नरेंद्र मोदी जन्म 17 सितंबर 1950 को गुजरात के वडनगर गांव , महेसाना में हुआ था। नरेंद्र मोदी के पिता का नाम दामोदर दास मूलचंद मोदी व माता का नाम हीराबेन मोदी है। नरेंद्र मोदी भारत के 15 वे प्रधानमंत्री है। इससे पहले नरेंद्र मोदी 4 बार गुजरात के मुख्यमंत्री भी रह चुके है।

                                                            Narendra Modi Quotes

1. माना की अँधेरा घना है, लेकिन दिया जलाना कहा मना है।

                                                            Narendra Modi Quotes

2. कड़ी मेहनत कभी थकान नहीं लाती वह हमेशा संतोष लती है।

                                                            Narendra Modi Quotes

3. हम वादे नहीं इरादे लेकर आये है।
                                                            Narendra Modi Quotes

4. काम को महत्वाकांक्षा बन जाने दीजिए।

                                                            Narendra Modi Quotes

5. डरते वो हैं जो अपनी छवि के लिया मरते हैं, मैं  तो हिंदुस्तान की छवि के लिया मरता हूँ इसलिए किसी से नहीं डरता हूँ।

                                                             Narendra Modi Quotes

6. मैं अकेला इस लड़ाई को नहीं जीत सकता , अगर साथ हो तुम मेरे तो में हार भी नहीं सकता।

                                                             Narendra Modi Quotes

7. मेरे लिए राजनीति महत्वाकांक्षानहीं है , बल्कि एक मिशन है।

                                                             Narendra Modi Quotes

8. समाज की सेवा करने का अवसर हमे अपना कर्ज चुकाने का मौका देता है।

                                                             Narendra Modi Quotes

9. काम करने का कोई भी अवसर मिलना मेरे लिए सौभाग्य की बात है - मैं उसमे अपनी आत्मा डाल देता हूँ , ऐसा हर एक अवसर अगले अवसर का द्वार खोल देता है।

                                                             Narendra Modi Quotes

10. राजनीति में कोई पूर्णविराम नहीं होता।

                                                              Narendra Modi Quotes

11. मुझे अपने देश के लिए मरने का मौका नहीं मिला पर मुझे देश के लिए जीने का मौका मिला है अर्थात देश के हित में काम करना  भी देशभक्ति है।

                                                               Narendra Modi Quotes

12. वक्त कम है जितना दम है लगा दो कुछ लोगों को मैं जगाता हूँ कुछ को तुम जगा दो।

                                                               Narendra Modi Quotes

13. यदि 125 करोड़ भारतीय लोग एक साथ काम करे तो भारत 125 करोड़ कदम आगे बढ़ जायेगा।

                                                               Narendra Modi Quotes

14. फर्क थोड़ा सा है तेरे और मेरे इश्क मैं , तू माशूक की खातिर रात भर जगता है! और मुझे मातृभूमि के हालात सोने नहीं देते।

                                                                Narendra Modi Quotes

15. जीवन में किसी का 'भला' करोगे 'लाभ' होगा , क्योंकि 'भला' का उल्टा 'लाभ' होता है।  और यदि जीवन में किसी पर 'दया' करोगे तो वो 'याद' करेगा क्योंकि 'दया' का 'उल्टा' याद होता है।
Share:

Wednesday, November 2, 2016

ज़िन्दगी की सीख Hindi Motivational Story

 on  with 6 comments 
In , , ,  

                     ज़िन्दगी की सीख  Hindi Motivational Story

www.achhesandesh.in

एक बार की बात है ,घास के मैदान में एक टिड्डा अपने परिवार के साथ रहता था। गर्मियों के मौसम में दिन गर्म होता था और घास हरी रहती थी, इसलिए टिड्डा अपने परिवार के साथ ख़ुशी ख़ुशी रहता था। टिड्डा घास के मैदान में अपने मित्रो वा परिवार के साथ खेलता कूदता था। टिड्डा अपनी इस ज़िन्दगी से बहुत ज्यादा खुश था। गर्मियों के मौसम में टिड्डे के परिवार के पास भोजन की कमी नहीं होती थी ,इसलिए टिड्डा बड़े आराम के साथ अपना जीवन यापन करता था।

पास में ही एक चींटी अपने परिवार के साथ रहती थी। एक तरफ जहाँ टिड्डा और उसका परिवार बड़े आराम से रहता था। उसके विपरीत चींटी और उसके परिवार को अपने भोजन के लिए बहुत संघर्ष करना पड़ता था। चींटी का पूरा परिवार भोजन की खोज में एक जगह से दूसरी जगह जाते और बहुत मेहनत करते तब जाकर जो भी खाने का सामान मिलता उसे बिल में जमा कर देते। वह टिड्डा यह सब देखता था और उनका मजाक उड़ाया करता था। एक दिन टिड्डा ने चींटी का मजाक उड़ाते हुए कहा, तुम  गर्मी के इस शानदार मौसम का आनंद क्यों नहीं लेते ? क्या तुमने जीवन का आनंद लेने बारे में कभी क्यों नहीं सोचा ?

उस चींटी ने हँसते हुए जवाब दिया, अगर हमने अभी मेहनत नहीं की , तो आने वाली सर्दी में हम जीवित नहीं रह पायेंगे। अभी इस मौसम में तो भोजन प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हैं। ऐसे में बुद्धिमानी इसी में  है की भविष्य के लिया भोजन का संग्रह कर लिया जाये। चींटी टिड्डा से पूछती है की, क्या तुम आगामी सर्दी को लेकर चिंतित नहीं हो ?
टिड्डे ने कहा, अभी तो सर्दी आने में समय है। तुम्हारी मुश्किल ये है की  ज़रूरत से ज्यादा सोचती हो। में तुम्हारी तरह हमेशा चिंतित नहीं रह सकता।

चींटी और उसका परिवार पूरी गर्मी अनाज के दाने का संग्रह करने में लगा रहा। वही दूसरी तरफ टिड्डा और उसका परिवार आराम से हँसते खेलते हुए रहता था। टिड्डा यही सोचता था की चींटी और उसका परिवार कितना मुर्ख है। जो इस मौसम का मजा भी नहीं ले रहा और भविष्य की व्यर्थ चिन्ता में लगा रहता है।

दिन बीतते गए और देखते ही देखते सर्दी आ गयी और पूरा मैदान बर्फ से ढक गया। ऐसे में इस सर्द हवायों में भोजन दुर्लभ हो गया और जीव जन्तुयों से लेकर कीड़े मकोड़े तक गर्म जगहों की तलाश करने लगे। टिड्डा और उसका परिवार भी भोजन की तलाश में दर दर भटकने लगा। एक दिन टिड्डा ने चींटी को उसके परिवार के साथ आनंद लेते हुए देखा। चींटी और उसके परिवार के पास भोजन की कमी नहीं थी। एक दिन टिड्डा चींटी के पास गया। टिड्डा ने चींटी से अनुरोध किया की मेरे परिवार को भी थोड़ा सा भोजन दे  दो। चींटी ने जवाब दिया की तुम बहुत आलसी हो। जब मेहनत करने की ज़रूरत थी तब तुम नाच गा रहे थे। हमने मेहनत की इस लिया हमारे पास पर्याप्त भोजन है। पर हमारे पास अधिक भोजन नहीं है। मुझे माफ करना।

टिड्डा और उसके परिवार को बहुत पछतावा हुआ। वह अपने किया पे पछताने लगे की अगर हमने भी सही वक्त पे मेहनत की होती तो आज हमारे पास भी भोजन होता।

दोस्तों इस कहानी से हमे यह सीख मिलती है की हमे कभी किसी की स्थिति का मजाक नहीं उड़ाना चाहिए। और बैठे रहने के बजाय भविष्य के लिए सोचना ही बुद्धिमानी है।  आप को ये कहानी कैसी लगी आप अपना feedback मुझे comment करके बता सकते हैं। आप मेरा link भी save  कर सकते हैं (www.achhesandesh.in )
Share:

Saturday, October 29, 2016

HAPPY DIWALI

 on  with No comments 
In , ,  

                                             Happy Diwali

www.achhesandesh.in

 भारतवर्ष त्यौहारों का देश है। भारत में नाना प्रकार के त्यौहार बनाये जातें हैं। जिनमे से दीवाली भी एक है। दीवाली या दीपावली अर्थार्थ रौशनी का त्यौहार। दीवाली प्रत्येक वर्ष शरद ऋतू में मनाया जाता है। भारतवर्ष में  दीपावली को बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है। दीवाली के समय पूरा भारतवर्ष रौशनी से जगमगा उठता है। यह त्यौहार अंधकार पर प्रकाश की विजय को दर्शाता है। दीपावली का समाजिक और धार्मिक दोनों दृष्टि से विशेष महत्व है।

माना जाता है की श्री राम जी के चौदह वर्षो के वनवास के पश्चात उनके आगमन की ख़ुशी में अयोध्या वासियो ने घी के दिये जलाये थे। पूरा अयोध्या प्रभु श्री राम के आगमन पर जगमगा उठा था। तब से दीवाली को प्रेत्यक वर्ष अंधकार पर विजय को रूप मई मनाया जाता है। कुछ लोगो का तो ये भी मानना है की दीवाली को पांडवो के 12 वर्षो के वनवास और एक वर्ष के आज्ञातवास के बाद वापस हस्तिनापुर लौटने की ख़ुशी के रूप में मनाया जाता है।

दीवाली के समय  लोग नए कपडे ,गहने वा गाड़िया इत्यादि खरीदते हैं। दीवाली के  समय खरीददारी करना शुभ माना जाता है। विशेषकर धनतेरस के दिन लोग सोने या फिर चाँदी की खरीददारी करते है। दीवाली के  दिन लोग घर में लक्ष्मी जी का पूजा अर्चना करते हैं। और अपने घरो को दियो से जगमगा देते हैं। बच्चे इस पर्व पे पटाखे जलाते हैं और धूम धाम से दीवाली  का त्यौहार बनाते हैं।

अंधकार पर प्रकाश की विजय का यह पर्व समाज में भाई चारे का सन्देश फैलाता है। हर प्रांत में दीवाली मनाने के कारण अलग अलग है,पर प्रेत्यक वर्ष यह त्यौहार हर प्रांत में बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है।दीवाली के  समय लोग अपने घरों की सफाई करते हैं वा घरो में रंग लगवाते हैं।

आप सभी को दीवाली की हार्दिक शुभकामनाये(Happy Diwali)। आशा करती हूँ की ये दीवाली आपके जीवन के अंधकार को दूर करे और आपके जीवन में प्रकाश ही प्रकाश करे।

 Wish You a Very Happy Diwali...
Share:

Thursday, October 27, 2016

The Inspiring Story of Marvan Attapattu

 on  with 1 comment 
In , , , ,  

                  The Inspiring Story of Marvan Attapattu


आज मैं एक ऐसे व्यक्ति की कहानी आप के साथ शेयर करने जा रही हूँ जिसने अपने जीवन में कभी हार नहीं मानी। यह कहानी एक ऐसे खिलाडी की जिसने अपने खेल में  उतार चढ़ाव होने के बावजूद कभी हार नहीं मानी। इस खिलाड़ी का नाम है Marvan Samson Atapattu.  हम सभी ने कभी ना कभी इनके बारे में सुना या फिर कही पढ़ा होगा।
Marvan Samson Atapattu. श्रीलंका के एक  पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी थे। Marvan Samson Atapattu का जन्म 22  नवंबर 1970 को kalutara (Sri Lanka ) में हुआ था। 
Marvan Samson Atapattu के दिमाग में बस एक ही चीज चलती थी….
क्रिकेट.क्रिकेट और बस क्रिकेट…
अपनी कड़ी मेहनत और लगन के दम पर उन्हें श्रीलंका की टेस्ट टीम में डेब्यू करने का मौका मिला।  अपने डेब्यू मैच की दोनों पारी में वो शून्य पे आउट हो गए।
पहली इन्निंग्स…… जीरो पे आउट।
दूसरी इन्निंग्स……. जीरो पे आउट।

Marvan Samson Atapattu को उनके इस ख़राब प्रदर्शन के कारण उन्हें टीम से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया।
इसके बाद Marvan Samson Atapattu ने कड़ी मेहनत की और काफी अभ्यास किया। Marvan  Atapatt
फर्स्ट क्लास मैचेज में लगातार अच्छा प्रदर्शन किया और एक 21 महीने बाद फिर से उन्हें श्री लंका की और से खेलने का मौका मिला। Atapattu इस मौके को फिर से नहीं भुना पाए।  Atapattu इस मैच की दोनों पारी को मिलाकर सिर्फ एक रन ही बना पाए।
पहली पारी - जीरो पे आउट
दूसरी पारी - 1 रन पे आउट

Atapattu को उनके इस ख़राब प्रदर्शन के कारण उन्हें टीम से  फिर बाहर कर दिया गया। इसी दौरान अटापट्टू लगातार फर्स्ट क्लास मैचेस खेलते रहे और उन्हों ने फर्स्ट क्लास मैचेस में हजारों रन बना डाले और 17 महीने बाद एक बार फिर से श्री लंका के लिए उनका टेस्ट टीम में सेलेक्शन हो गया। अटापट्टू इस बार भी कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर पाए और एक बार फिर से मैच की दोनों पारी में शून्य पे आउट हो गए।
पहली पारी - जीरो पे आउट
दूसरी पारी -  जीरो पे आउट

अटापट्टू को उनके इस ख़राब प्रदर्शन के कारण फिर टीम से बाहर निकाल दिया गया।


.
प्रैक्टिस…
प्रैक्टिस….प्रैक्टिस….प्रैक्टिस…
प्रैक्टिस….प्रैक्टिस…
.
.
और तीन साल बाद एक बार फिर अटापट्टू  को मौका दिया गया। इस बार अटापट्टू ने मुड़कर कर नहीं देखा और अपने खेल से लोगो का दिल जीत लिया। अटापट्टू को टेस्ट क्रिकेट में अपना दूसरा रन बनाने के लिया 6 साल लगा दिए। लेकिन अटापट्टू ने कभी हार नहीं मानी।
श्रीलंका की और से 16 शतक और 6 दोहरे शतक जड़ डाले और श्रीलंका का one of the most successful कप्तान बना! वह कहते हैं न "कोशिश करने वालो की कभी हार नहीं होती और लहरों से डरकर नौका पार नहीं होती। "
सोचिये जिस इंसान को अपना दूसरा रन बनाने में 6 साल लग गए अगर वो इतना बड़ा कारनामा कर सकता है तो दुनिया का कोई भी आदमी कुछ भी कर सकता है!

और कुछ कर गुजरने के लिए डंटे रहना पड़ता है…
लगे रहना पड़ता है…
मैदान छोड़ देना आसान होता है…
मुश्किल होता है टिके रहना…
और जो टिका रहता है वो आज नहीं तो कल ज़रूर सफल होता है।
इसलिए आपने जो कुछ भी पाने का निश्चय किया है उसे पाने
की अपनी जिद मत छोडिये…
मन से किये छोटे प्रयास हमेशा बड़ा परिणाम देते है।।
" किसी अज्ञात की लिखित सामग्री "

जीवन संघर्श भरा है हमे कभी हार नहीं माननी चाहिए। क्योंकि कोशिश करने वालो  की हार नहीं होती। आपको ये the inspiring story of marvan attapattu कहानी कैसी लगी इस पर आप अपना feedback commnt के द्वारा दे सकते है। आप मेरा लिंक भी save कर सकते हैं। www.achhesandesh.in

TAGS-the inspiring story of marvan attapattu , motivational story  
Share:

Saturday, October 22, 2016

सफल न होने के ५ कारण (5 Reasons Why We Fail )

 on  with 5 comments 
In , , ,  

सफल न होने के ५  कारण (5 Reasons Why We Fail )


ज़िन्दगी में  सफल तो हर कोई होना चाहता है। लेकिन सफलता का भी एक मूल्य होता है जो हर किसी को चुकाना पढता है। वह कहते हैं न की " कुछ पाने के लिया कुछ खोना पड़ता है। " इस वजह से ज़िन्दगी में बहुत सरे ऐसे लोगो को हमने देखा होगा जो सफल नहीं हो पाए। क्योंकि उन्हों अपनी सफलता की वह कीमत नहीं चुकाई होती है। आइए आज हम इन्ही कुछ कारणों पर चर्चा करते है। सफल न होने के ५  कारण
(5 Reasons Why We Fail )-


1. डर (fear )-  

सफलता की रह में सबसी बड़ी बाधा होती है व्यक्ति का डर। इंसान डर के कारण किसी भी कार्य को पूरी लगन से नहीं कर सकता। डर एक कल्पना भी हो सकती है और वास्तविकता भी। डरा हुआ व्यक्ति हमेशा घबराया हुआ रहता है और अजीबोगरीब हरकते भी करता है। डर व्यक्ति की क्षमता को नष्ट कर देता है। डरा हुआ इंसान ठीक से सोच भी नहीं पाता और हमेशा असमंजस में ही रहता हैं। डर कई तरीके का हो सकता है -
  • सफल न होने का डर।
  • अस्वीकार होने का डर।
  • नुकसान होने का डर। 
  • गलत फैसला लेने का डर।
वो कहते हैं न की," डर के आगे जीत हैं। "

2.  अनुशासन की कमी (lack of discipline )-

 ज़िन्दगी में  अनुशासन का विशेष महत्व  है। क्या हमने कभी सोचा है की अधिकतर लोग अपने लक्ष्य को क्यों नहीं हासिल कर पते हैं ?क्या कभी हमने ये सोचा की कुछ लोगो को तो सफलता मिल जाती है लेकिन अधिकतर लोग असफल क्यों हो जाते हैं ? इसकी सबसे बड़ी वजह है  अनुशासन।किसी भी क्षेत्र में सफलता हासिल करने के लिया  अनुशासन का होना बहुत जरुरी है चाहे वह खेल हो ,या फिर कोई व्यापार। अनुशासित रहने के लिया आत्मनियंत्रण एवं त्याग की आवश्यकता होती है ,तथा भटकाव से बचना पड़ता है। इसलिए हर व्यक्ति का ध्यान केवल अपने लक्ष्य पर ही होना चाहिए। अनुशासित व्यक्ति बहुत ही जिम्मेदार होता है। 

3. ख़तरे उठाने से बचना (unwillingness to take risks)-

 सफलता पाने के लिया व्यक्ति को समय समय प risk भी उठाने पड़ते है। ख़तरे उठाने का ये मतलब नहीं की बेवकूफ़ी भरे फैसले लिया जाये। कई लोग बेवकूफ़ीभरा जुआ खेलने को भी खतरे उठाना समाज लेते हैं। जब ऐसे  बेवकूफ़ीभरे निर्णय की वजह से ख़राब नतीजे मिलते है तब वे अपनी किस्मत को दोष देने लगते हैं। खतरे उठाने का मतलब हर व्यक्ति के लिया अलग अलग हो सकता है। नदी में तैरना किसी प्रशिक्षित (trained ) व्यक्ति और किसी नए सीखने वाले व्यक्ति दोनों  के लिए ख़तरनाक साबित हो सकता है , लेकिन  प्रशिक्षित (trained ) व्यक्ति के लिए इसे गैरज़िम्मेदारी भरा खतरा नहीं माना जा सकता।  ज़िम्मेदार ढंग से खतरे लिए ज्ञान ,अध्ययन ,आत्मविश्वास ,प्रशिक्षण  और क़ाबलियत की ज़रूरत होती है।  

4. लगातार कोशिश की कमी (Lack of Persistence)-

 जब व्यक्ति को मुश्किलो पर क़ाबू पाना नामुमकिन लगता है ,तो भागना सबसे आसान तरीका लगता है। यह बात हर व्यक्ति की ज़िन्दगी पे लागू  होती है। चाहे वह व्यक्ति की शादी की बात हो ,नौकरी की बात हो या फिर व्यापार की। जीतने  वाले चोट भले ही खाएँ ,पर मैदान कभी नहीं छोड़ते।
हर किसी  जीवन में ठोकरें लगती है पर इसका मतलब ये नहीं की हम हाथ पे हाथ धरे बैठे रहे।
हमे अपने लक्ष्य को हासिल करने लिया निरंतर प्रयास करते रहना चाहिए।
" कोशिश करने वालो की कभी हार नहीं होती , लहरों से डरकर नौका पार  नहीं होती। "

5. बहाने बनाना (Rationalisation )-

काम को न करने की चाह से इंसान बहाने बनाने लगता है जोकि उसकी असफलता का कारण  बनता है। बहाने बनाना हारने वालो की आदत होती है। जो लोग किसी भी कार्य को पूर्ण नहीं करते है तो वे बहाने बनाने लगते है। हरने वालो के पास बहानों की पूरी किताब होती है। लेकिन जीतने वाले कभी बहाने  नहीं बनाते बल्कि वह अपने कार्य को पूरी लगन के साथ करते है। बहाने बनाने वाले व्यक्ति के बहाने कुछ इस प्रकार होते है-
  • मेरी उम्र बहुत ज्यादा है। 
  • मेरे पास पैसे नहीं है। 
  • मेरे पास ज्यादा वक्त नहीं है। 
  • मैं शिक्षित नहीं हूँ। 
  • मैं लाचार  हूँ। 
  • मेरी किस्मत ख़राब है। 
  • मुझे मौका नहीं मिला।  
इस प्रकार लोगो के बहाने की लिस्ट बढ़ती ही जाती है। किसी इंसान का सफल होना दो बातो पे निर्भर करता है - वजह और नतीजे। वजह पे कोई ध्यान नहीं देता पर नतीजे मायने रखते है। 

अगर आपको ये पसंद आये तो शेयर( share )करे और अपने feedback भी मुझे बताये की आपको ये पोस्ट कैसे लगी। comment करके आप मुझे feedback दे सकते है। आशा करती हूँ की आपको ये (5 Reasons Why We Fail ) पोस्ट पसंद आयी होगी। और उम्मीद करती हूँ की हम सब अपनी गलतियों से सीखेंगे और कभी भी अपनी गलतियां नहीं दोहराएंगे। आप मेरा link भी save कर सकते हैं।  www.achhesandesh.in
Share:

Wednesday, October 19, 2016

छोटी छोटी बातें HINDI MOTIVATIONAL STORY

 on  with 3 comments 
In , ,  

           छोटी छोटी बातें HINDI MOTIVATIONAL STORY 


www.achhesandesh.in

एक बार की बात है एक आदमी समुंद्र के किनारे टहल रहा था। वह आदमी टहलते हुए समुंद्र की लहरो से आयी स्टारफिश को वापस समुंद्र मे फेंक रहा था। कई लोग उसे ये कार्य करते हुए देख रहे थे की वह बार बार जुख कर स्टारफिश को वापस समुन्द्र मे दाल रहा था।  वे सब उसे एक पागल व्यक्ति समझ रहे थे। किन्तु एक आदमी उसके पीछे पीछे चल रहा था। और वह आदमी उसे काफी देर से देख रहा था और सोच रहा था की ये ऐसा एक्यू कर रहा है। लोग इसको पागल बोल रहे है तब भी इसे कोई फर्क नहीं पढ़ रहा ये अपना काम करे ही जा रहा है। अंत में  उस आदमी से रहा नहीं गया और वह उस व्यक्ति के पास गया। उसने उस व्यक्ति से पूछ ही  लिया की तुम क्या कर रहे हो ? यहाँ तो सैकड़ो स्टारफिश है। इन स्टारफिश को समुन्द्र में  क्यों डाल रहे हो? ये फिर समुंद्र की लहरों के साथ फिर वापस समुन्द्र में चली जाएगी। ऐसा करने से क्या फर्क पड़ेगा। वह आदमी कोई जवाब नहीं देता है और आगे बढ़कर एक और स्टारफिश को उसने वापस समुन्द्र में फेंक दिया। उस व्यक्ति ने फिर उससे यही प्रश्न किया की तुम्हारे ऐसे करने से क्या फर्क पड़ेगा ? उस व्यक्ति ने मुस्करा के जवाब दिया  की मेरे ऐसा करने से इस एक स्टारफिश को एक नया जीवन मिलता है और इस एक स्टारफिश को इससे फर्क पढता है। मेरा ऐसा करने से इस एक स्टारफिश की ज़िन्दगी पूरी तरह बदल जाएगी। और मेरे ऐसा करने से इस एक मछली को बहुत फर्क पढता है। वहाँ पे जो लोग उसका मजाक बना रहे थे वह शर्मशार हो जाते हैं और उन्हें अपनी भूल का एहसास होता है।

हमारे द्वारा किया गए हर छोटे कार्य से फर्क पढता है। जिस तरह उस आदमी के द्वारएक मछली को वापस समुन्द्र में फेंके जाने से उसका जीवन बदल जाता है। या यूँ कहे की उसे एक नयी ज़िन्दगी मिलती है। अगर हर व्यक्ति थोड़ा थोड़ा फर्क लाये, तो बहुत बड़ा फर्क पड़ेगा। हर किसी को अपना अपना कार्य करना चाहिए। कितनी भी बड़ी समस्या क्यों न हो अगर हर की प्रयास करेगा तो उस समस्या से बड़ी आसानी से निपटा जा सकता है। "क्योंकि छोटी छोटी बातें बड़ा  डालती हैं। "

आशा करती हूँ की आपको ये hindi motivational story पसंद आयी होगी। अपने विचार मुझे ज़रूर बताये। 

tags-#hindi motivational story
        #moral story
        #inspirational story
Share: